समीक्षा: सपनों की उड़ान (कहानी संग्रह) – रामेश्वरी “नादान”

समीक्षा: सपनों की उड़ान (कहानी संग्रह) – रामेश्वरी “नादान”

पुस्तक:- सपनों की उड़ान (कहानी संग्रह)
लेखिका:- श्रीमती आशा रौतेला मेहरा
प्रकाशक:- रावत डिजिटल
मूल्य :-250/-
पृष्ठ:-136
समीक्षा:- रामेश्वरी “नादान”


एक साहित्यिक पुष्प जो अपनी खुशबू को साहित्य संसार में बिखरने को आतुर है। जिसकी सुगन्ध हमें विवश करती है कि, हम उस पर मन्त्रमुग्ध हो जाये। बस ऐसा ही पुष्प है  युवा लेखिका “आशा रौतेला मेहरा” जी। कुछ समय पहले ही उनका प्रथम कहानी संग्रह “सपनों की उड़ान”  प्राप्त हुआ। रावत डिजिटल प्रकाशन से प्रकाशित सामाजिक कहानियों का संग्रह है “सपनों की उड़ान”  लेखिका का प्रथम संग्रह है। सर्वप्रथम लेखिका को उनके प्रथम कहानी संग्रह की ढेरों शुभकामनाएं। 23 कहानियों में सामाजिक, आर्थिक, सच्चे प्रेम, परिवारिक आदि विषयों पर लेखिका ने अपनी कलम चलाई हैं। पुस्तक शीर्षक “सपनों की उड़ान” से ही प्रथम कहानी बुनी गई है। जिसमें नायिका के संघर्ष की कहानी है। किस प्रकार वह विकट परिस्थितियों को सामना कर खुद को समाज में स्थापित करती है फिर एक दिन अपने सपनों को सच करती है। लेखिका की अधिकतर कहानियां नारी प्रधान विषयों पर केंद्रित हैं। पहला प्यार, एक प्रेम कहानी यह भी, प्रेम, मैंने ली है कसम” आदि कहानियों का मूल आधार प्रेम ही है। ईमानदारी में जीवन भर ईमानदारी से जीते व्यक्ति पर जब झूठा आरोप लगाया जाता है और उसके बाद सच जब सामने आता है तो क्या होता है। इस विषय पर  खूबसूरती से लिखी समाजिक कहानी है “ईमानदारी “। पलायन पर लिखी कहानी ” एक और एक ग्यारह” एक बेहतरीन कहानी है। हिम्मत और दृढ़ निश्चय हो तो कोई भी कार्य असम्भव नहीं है। इस कहानी में लेखिका ने पलायन के दर्द से लेकर दृढ़ निश्चय को खूबसूरती से दर्शाया है। “प्रसव पीड़ा” भी एक बेहतरीन कहानी बन पड़ी है। कुछ कहानियां बहुत ही बेहतरीन है तो कुछ को थोड़ी पकने की जरूरत है। लेखिका के पास शब्दों का भंडार है। हुनर है,भाव है,अहसास है जो आगे चलकर उन्हें  साहित्य जगत में एक मुकाम देंगे। प्रथम संग्रह है तो कुछ खट्टी तो कुछ मीठी कहानियां पढ़ने को मिलेगी। शुरुआत अच्छी है। सामाजिक विषयों को उठाकर उनपर कहानी लिखना आसान नहीं है। लेखिका ने एक बेहतरीन कोशिश की है।  युवा लेखिका के अंदर अपार संभावनाएं जन्म ले रही है। जरूरत है उनके हौसलों की उड़ान को पंख देने की। निकट भविष्य में उनके इससे भी बेहतर  संग्रह पढ़ने को मिलेंगे यही आशा करती हूं।  मां शारदे का आशीर्वाद उनपर सदैव बना रहे।
उनके उज्वल भविष्य की कामना के साथ 

  • रामेश्वरी “नादान”
    71 सी, कामना, सैक्टर 5
    वैशाली, गाज़ियाबाद, उतरप्रदेश-201012

समीक्षा: सपनों की उड़ान (कहानी संग्रह) – रामेश्वरी “नादान”

पुस्तक:- सपनों की उड़ान (कहानी संग्रह)लेखिका:- श्रीमती आशा रौतेला मेहराप्रकाशक:- रावत डिजिटलमूल्य :-250/-पृष्ठ:-136समीक्षा:- रामेश्वरी “नादान” एक साहित्यिक पुष्प जो अपनी खुशबू को साहित्य संसार में

Read More »

2 Replies to “Khaichatani”

Leave a Reply

Table of Contents